फुर्सत के दिन/fursat ke din

एक प्रयास,"बेटियां बचाने का"में शामिल होइए http://ekprayasbetiyanbachaneka.blogspot.com/

40 Posts

603 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4540 postid : 446

रक्त दान !!काश ऐसा हो( जागरण फोरम )

Posted On: 4 Jun, 2012 Others,टेक्नोलोजी टी टी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अभी कुछ ही दिनों की बात है ,मेरे एक मित्र  जो कि दिल्ली निवासी है ,के बड़े भाई साहेब का एक जटिल आपरेशन हुआ जिसके लिए काफी मात्र में ब्लड कि जरुरत थी जो काफी  कोशिशो के बाद पूरा तो हुआ पर मन में एक सवाल रह गया ,कि देश में कितने ही लोग इस लिए काल के गाल में समा जाते है क्योंकि  उन्हें वख्त रहते खून प्राप्त ही नहीं हो पाता कारण कोई भी हो सकता है ! लेकिन कुछ कारन ऐसे भी हैं जिन्हें दूर किया जा सकता है ,जैसा कि अक्सर देखने को मिलता है कि लोग अपने  रिश्तेदारो/ मित्रो को खून देना तो चाहते है पर अपनी आर्थिक यां पारिवारिक मज्बूरिओं के कारण जरुरत के समय रक्त दान हेतु उस हास्पिटल तक पहुच ही नहीं पाते (ऐसा मेरे साथ भी हुआ जब चाह कर भी किसी मित्र तक नहीं पहुच सका ) क्या इस समस्या  का कोई हल नहीं  ? शायद हल है ,आज तकनिकी युग है हर जगह नए नए तकनिकी प्रयोग हो रहे है ये तकनिकी का ही कमाल है की आज घर से  निकलते समय हम जेब में नगदी नहीं देखते  a t m जो है जेब में कही घर से दूर है खर्चा ख़तम हो गया है तो घर पर फोन घुमाया ,उधर खाते में पैसे आये इधर हमने निकलवा लिए ,वो भी घर से हजारो किलोमीटर दूर ,और भी ऐसी ही कई चीजे है जो कभी असंभव सी थी पर आज सामान्य सी बात है ,हम सभी जानते है की रक्त यानी खून किसी भी तरीके से बनाया नहीं जा सकता पर किसी भी ब्लड बैंक में आप एक यूनिट ब्लड दे कर बदले में अपनी जरुरत के ग्रुप का एक यूनिट ब्लड प्राप्त कर सकते है आसन सा काम है पर सोचिये आप घर से दूर अजनबियों में है आपको चार यां छह यूनिट ब्लड चाहिए आपके रिश्तेदार दूर है ब्लड तो देना चाहते है पर आप तक पहुचना संभव नहीं है हो सकता है जब तक कोई रिश्तेदार यां मित्र समय निकल कर पहुचे मरीज के नाम के साथ स्वर्गीय लग जाये ये तो थी समस्या
अब समाधान क्या ऐसा नहीं हो सकता की मै अपने व्यस्त समय से एक घंटा निकालू अपने शहर के ब्लड बैंक जाऊ अपना एक यूनिट ब्लड निकलवाऊ और देश भर में किसी भी शहर में बैठे अपने रिश्तेदार को अपना रक्त दान की स्लिप इ मेल करूँ और उन्हें वह स्लिप दिखने पर उस शहर में ब्लड बैंक से एक यूनिट ब्लड प्राप्त हो जाय कितना समय बचेगा ,कितना आवागमन में लगने वाला खर्चऔर सबसे बड़ी बात कितनी कीमती जाने बच जाएगी अगर यह परिकल्पना सच हो जाये तो शायद खून की कमी से मेरे देश में कोई जान न जाये ! कोशिश हो तो दोस्तों यह असंभव तो नहीं यदि धन प्राप्त करने के लिए यह तकनीक इस्तेमाल हो सकती है तो यहाँ क्यों नहीं आइये हम सब मिल कर अपने अपने स्तर से  कोशिश करें  दोस्तों कोशिशे ही तो कामयाब होती हैraktdan

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

akraktale के द्वारा
June 5, 2012

जीत जी नमस्कार, बहुत ही अच्छा सुझाव है आपका जो परिस्थितियाँ आपके साथ आयी वही हमारे साथ भी आयी, जब जंक्शन मंच के ही मित्र चातक जी के भाई साहब को रक्त की आवश्यकता पड़ी, दुरी और समयाभाव यहाँ बढ़ा रहे. कुछ मित्रगन जो दिल्ली के आसपास के थे वे गए और रक्तदान करके आये भी. किन्तु हम दूर वाले दूर ही रह गए.आपके सुझाव पर यदि अमल हो सके तो ऐसे वक्त होने वाली शर्मिंदगी से बचा जा सकता है और पीडीत की मदात भी हो सकती है. बहुत नेक विचार. स्वागत.

Rajkamal Sharma के द्वारा
June 4, 2012

अच्छी और ऊँची सोच को सलाम करते हुए मैं भी आपके स्वर में अपनी आवाज मिलाता हूँ :-D :-o :-( :-? :-x :-) :-P :mrgreen: :oops: :roll: :cry: :evil: ;-)


topic of the week



latest from jagran