फुर्सत के दिन/fursat ke din

एक प्रयास,"बेटियां बचाने का"में शामिल होइए http://ekprayasbetiyanbachaneka.blogspot.com/

40 Posts

603 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 4540 postid : 397

बार बार की गलती बेवकूफी कहलाती है !

Posted On: 8 Jan, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

vot1

आज कल आप सब के दरवाजे पर कई प्रकार के गधे ,घोड़े , व् खच्चर आ रहे होगे की हम सब से बेहतर हैं ,पर उन रंगे गधों में से हमें वो घोड़े पहचानने होगे गो कम चना खा कर कर्तव्य रूपी बोझ को विकास रूपी पथरीले रस्ते पर ले जा सके अतः हमें रंग ,जाती व् नस्ल न देखते हुए उन्ही घोड़ों को चुनना होगा यही हमारे व् हमारे समाज के लिए बेहतर होगा वर्ना पिछली गलती की तरह फिर पांच साल पछताना होगा और हाँ पहली बार की गलती ही गलती कहलाती है बार बार की गलती बेवकूफी कहलाती है मुझे उम्मीद है मेरे देश व् प्रदेश का युवा वर्ग बव्कुफ़ तो हरगिज नहीं होगा ,अतः वोट डालने जरुर जाए मत दान जरुर करे पर अपना मत “दान ” बिलकुल न करे अच्छे प्रत्याशी को वोट करे क्योकि यही समय है परिवर्तन लाने का

मलकीत सिंह “जीत”

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (3 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

10 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

dineshaastik के द्वारा
January 12, 2012

काश,आपकी बात जन-जन तक पहुँचती। जीत जी प्रयास मत छोड़िये,आपकी जीत जरूर होगी। आज नहीं तो कल।

Sumit के द्वारा
January 9, 2012

जब सब गलत हो तो ऐसा होना मुस्किल है http://sumitnaithani23.jagranjunction.com/2012/01/05/वो-पव्वा-चढ़ा-के-आई/

akraktale के द्वारा
January 9, 2012

जीत जी, हमारे यहाँ तो गधे घोड़े अभी आपस में ही लड़ रहे हैं जब इधर रुख करेंगे तो देखेंगे किसकी आंख में शर्म का पानी है. आप के यहाँ अब ये आप की तरफ रुख किये हैं तो जरूर इनको अपनी करनी की याद दिलाएं और अगले पांच वर्षों के लिए किसी अच्छे व्यक्ति को लायें यही मै भी चाहता हूँ. बहुत ही सार्थक बात कही है आपने धन्यवाद.

surendra shukla bhramar5 के द्वारा
January 9, 2012

अतः वोट डालने जरुर जाए मत दान जरुर करे पर अपना मत “दान ” बिलकुल न करे अच्छे प्रत्याशी को वोट करे क्योकि यही समय है परिवर्तन लाने का.. बहुत सुन्दर सन्देश मलकीत भाई पर काश लोगों के भेजे में ये घुसे ये बात तब ना …थोड़े से लालच में साडी कम्बल दारु कुछ नोट सब बिगाड़ जाते हैं …फिर रोना बस …कहते हैं न एक भेंड कुएं में कूदी तो सब ,….देखा देखी में ..जय श्री राधे भ्रमर ५

HARPREET RAJ के द्वारा
January 9, 2012

आज कल के समय के हिसाब से युवा वर्ग के लिए बढ़िया सन्देश ,धन्यवाद

alkargupta1 के द्वारा
January 9, 2012

सही समय पर बहुत ही सुन्दर शब्दों में बढ़िया सन्देश दिया है मलकीत सिंह जी

Santosh Kumar के द्वारा
January 8, 2012

जीत साहब ,.सादर अभिवादन बहुत कम शब्दों में बहुत बड़ी बात कही आपने ,….हार्दिक साधुवाद

manoranjanthakur के द्वारा
January 8, 2012

बहुत संछिप्त मगर उम्दा नव वर्ष मुबारकबाद

manoranjanthakur के द्वारा
January 8, 2012

बहुत संछिप्त मगर उम्दा काफी दिनों बाद नव वर्ष मुबारकबाद

minujha के द्वारा
January 8, 2012

मलकीत सिंह जी नमस्कार बहुत दिनों बाद आपकी कोई रचना आई है,अच्छा संदेश दिया है आपने


topic of the week



latest from jagran